कलम का तिलक,इंटर्नैशनल डैस्क26 सितंबररूस के रहने वाले ‘नरभक्षी’ परिवार को पुलिस ने काबू किया है,जो इंसानों को मारकर उसके मास का अचार बनाकर खाते थे ।यह बात इस परिवार ने स्वीकार भी कर ली है कि उन्होंने 18 साल के अंदर करीब 30 लोगों को मारकर खाया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक पुलिस ने आठ लोगों के अंगों नरभक्षीको बरामद किया है और तलाश जारी है। दक्षिण रूस के क्रास्नोडार के रहने वाले 35 साल के दिमित्री बाकेशेव ने पुलिस के सामने कबूला है कि उसने यह साल 1999 में शुरू किया था। बाकेशेव के साथ उसकी पेशे से नर्स 42 वर्षीय पत्नी नतालिया को भी गिरफ्तार किया है।

डेली मेल की रिपोर्ट में रशियन इंवेस्टिगेशन कमेटी के हवाले से लिखा गया है कि बाकेशेव और उसकी पत्नी इंसानी अंगों को फ्रीज और तहखाने में स्टोर करके रखते थे। इंसानी अंगों को वे लोग जार में भी जमा करके रखते थे। बताया जा रहा है कि वे लोग इंसानी गोश्त का अचार बनाकर रखते थे। इसके अलावा पुलिस को 19 इंसानों की खाल भी बरामद की है।
बताया जा रहा है कि आरोपी युवक और उसकी पत्नी मिलिट्री एकेडमी में कार्य किया करते थे। क्रास्नोडार में एक मोबाइल फोन मिला था, जिसमें इंसानी अंगों के साथ एक युवक की तस्वीर थी। जिसके बाद पुलिस ने जांच की और उन्हें गिरफ्तार किया। पुलिस अभी उन लोगों की तस्वीरों की जांच कर रही है, जो मोबाइल में मिली हैं। इन तस्वीरों यह युवक उनके अंगों के साथ सेल्फी लेते हुए दिख रहा है। एक तस्वीर में वह एक महिला की खोपड़ी और सिर के साथ सेल्फी लेते हुए दिख रहा है।

नतालिया अपने पति से सात साल बड़ी है, हालांकि यह स्पष्ट नहीं हो पाया कि इन दोनों ने शादी कब की थी। यह परिवार मिलिट्री अकेडमी के क्वार्टर हॉस्टल में ही रहता था। अभी इन्हें हिरासत में रखा गया है। बताया जा रहा है कि ये लोग अपने लोगों को सुलाने के लिए उन्हें एक ड्रग्स देते थे, जिसके बाद वे बेहोश हो जाते थे। मिलिट्री एकेडमी के एक वर्कर के हवाले से लिखा है कि जब भी वे लोग उनके कमरे में घुसने की कोशिश की तो वे लोग चिल्लाने और रोने लगते थे। पड़ोसियों का कहना है कि नतालिया काफी गुस्सैल किस्म की महिला है।