फ़तेहाबाद में अफ़सरशाही ने भाजपा सरकार पलीता लगाने की ठानी
कलम का तिलक,फ़तेहाबाद,संपादक-9 अक्तूबर।केंद्र और प्रदेश की भाजपा सरकार ने सर्वसमाज को जोडऩे के लिए अनेक एक से बढ कर एक महत्वपूर्ण निर्णय किए है जिनका फ़ायदा आम जन व प्रदेश के दबे कुचले लोगों को हो सकता था मगर प्रदेश भाजपा सरकार की वंचित वर्गों की भलाई हेतु चलाई गई इन जन कल्याण्कारी योजनाओं को अधिकारी पलीता लगा रहे हैं ।जिस्से हालात बद से बदतर होते जा रहे हैं । फ़तेहाबाद में जनता की सुध लेने वाला कोई नही होने के कारण सरकार के प्रति गुस्सा लगतार बढता जा रहा है।
अब सरकार लड़की की शादी पर दी जाने वाली वित्तीय सहायता या बिमार के इलाज हेतु दी जाने वाली वित्तीय सहायता को ही ले लें यह राशि पीला कार्ड होलडर को दी जाती है। मगर हर किसी गरीब के पास पीला कार्ड नही है तो इनकम प्रमाण पत्र पेश करने के बाद 10 हजार रू की आर्थिक मदद दी जाती है ।
सथानीय प्रसासन से (इनकम प्रमाण अदर प्रपोज) पत्र किस तरीके से बनता यह तो सथानीय किसी सी.एस.सी संचालक से या किसी भुगत भोगी से जाना जा सकता है।पहले की सरकारों के समय में बेटी की शादी हेतु अनुदान लेने के लिए पीला कार्ड व इनकम प्रमाण अदर प्रपोज किसी न किसी तरह बन तो जाता था ।
विमुक्त जाति, टपरीवास जाति के गरीबों के लिए चलाई गई नई से नई सकीमों का लाभ उनहे निवास प्रमाणपत्र व इनकम प्रमाणपत्र देने के बाद ही मिल सकता है ।मगर हकीकत यह है कि जिसका वोटर पह्चान पत्र,राशन कार्ड बना हुआ हो वह 7-8 साल से स्थाई तौर पर एक जगह पर रह रहा हो अधिकारी तो उनको ही रिपोट नही करके देते अगर कोई किसी न किसी तरह रिपोट करा भी लाए तो सक्षम अधिकारी फ़ाईल को रिजैक्ट करा देते है यानि यह दस्तावेज बनवाना तो उनके लिए ही असंभव हो तो विमुक्त जाति, टपरीवास जाति तथा घुमंतु जातियों के पास तो यह दस्तावेज होते ही नहीं है उनको यह लाभ किस तरह मिल रहे है इसका अंदाजा लगाया जाना सहज ही है। अब तो अधिकारीओं ने ठान रखी है कि जनता को बीजेपी को वोट देने का सवाद चखाना ही है।